Soole Ke Paas

क्रूस ही के पास जहां ख़ून बहा

दब के गुनाहों से मैं गया

ख़ून में वहां यह दिल साफ हुआ

उसकी हो तारीफ उसकी हो तारीफ

ख़ून में वहां यह दिल साफ हुआ

उसकी हो तारीफ

दूर हैं गुनाह मेरे बिल यकीन

दिल में अब येसु है तख्त नशीन

क्रूस का ही गीत मुझको शीरीन

उसकी हो तारीफ उसकी हो तारीफ

ख़ून में वहां यह दिल साफ हुआ

उसकी हो तारीफ

क्रूस का वह चश्मा है बेश बहा

खुश हूं कि मैं उसके पास आया

खूब मुझको येसु ने साफ किया

उसकी हो तारीफ उसकी हो तारीफ

ख़ून में वहां यह दिल साफ हुआ

उसकी हो तारीफ

देख यह चश्मा है साफ शपफाफ

ताकि हों तेरे गुनाह मुआफ

इस वक्त अभी हो तू साफ

उसकी हो तारीफ उसकी हो तारीफ

ख़ून में वहां यह दिल साफ हुआ

उसकी हो तारीफ