Nau Saya Khola – Tara Devi 

नौ सय खोला, तरेर जाने, बिर्सने पो हौ कि मलाई…२।…२
नफर्के सम्म, पर्खेर बस्छु, सम्झनाको दियो जलाई,

बिर्सने पो हौ कि। नौ सय खोला।
बादलले ढाके, म रोइरहेछु भनेर ठाने है।…२

बाडुल्की लागे, म सम्झिरहेछु भनेर ठाने है।…२

सम्झिरहेछु सम्झिरहेछु जाने है।

नौ सय खोला, तरेर जाने, बिर्सने पो हौ कि मलाई…२।

नौ सय खोला।
बतास चले, म छटपटाए भनेर सोचे है …२

घामले पोले, म बिरामी भए भनेर जाने है।…२

सम्झिरहेछु सम्झिरहेछु जाने है।

नौ सय खोला, तरेर जाने, बिर्सने पो हौ कि मलाई…२।

नौ सय खोला।
बिजुली चम्के, निन्द्रामै बिउझे भनेर बुझे है।…२

हिउ नै परे, म यहिँ नै मरे भनेर बुझे है।…२

सम्झिरहेछु सम्झिरहेछु जाने है।

नौ सय खोला, तरेर जाने, बिर्सने पो हौ कि मलाई…२।

नफर्के सम्म, पर्खेर बस्छु, सम्झनाको दियो जलाई,

बिर्सने पो हौ कि। नौ सय खोला।

Advertisements